Baal Jagat

च्यवन ऋषि की कथा

वैवस्वत मनु के पुत्र शर्याति वेदों के विद्वान थे। उनकी एक अति सुन्दर पुत्री थी सुकन्या। एक बार राजा शर्याति अपनी पत्नी तथा कन्या के साथ वन में भ्रमण करने गए सुकन्या वन में घूमकर वृक्षों का सौन्दर्य देख रही थी एक स्थान पर उसे दीमकों की बॉबी दिखाई दीएक छेद से उसे दो किरणें-सी निकलती दिखाई पड़ीं। बाल-सुलभ चापल्य के कारण सुकन्या ने एक कांटे से उस ज्योति को बेध डाला उसमें से रक्त की धारा निकली तो सब आतंकित हो गएराजा शर्याति को आश्चर्य हुआ। सुकन्या ने पिता के सामने डरते-डरते कहा, “पिताजी! शायद मुझसे कुछ अपराध हो गया है यह रक्त की धारा ज्योति से निकल रही है।"

यह देखकर राजा बहुत दुखी हुएउन्होंने च्यवन ऋषि को अनुनय-विनय के साथ प्रसन्न करने के लिए अपनी कन्या सुकन्या का विवाह ऋषि से ही कर दिया और अपनी राजधानी लौट आए।

परमक्रोधी च्यवन ऋषि की सेवा सुकन्या बड़ी श्रद्धा के साथ करती रही। पति को प्रसन्न करके सुकन्या आश्रम में सुख से रह रही थी।

एक बार दोनों अश्विनी कुमार आश्रम में आए । च्यवन ऋषि ने उनका स्वागत-सत्कार करके उन्हें प्रसन्न किया फिर आग्रह किया, “मैं आपको यज्ञ में सोमरस पान का अधिकार दिलवा दूंगाआप मुझे इस वृद्धावस्था एवं कुरूपता से छुटकारा दिलाकर यौवन दीजिए।"

देवताओं के वैद्य अश्विनी कुमारों ने च्यवन ऋषि को ले जाकर एक कुण्ड में स्नान कराया । जब वे तीनों कुण्ड से निकलकर बाहर आए तो तीनों का रूप एक-सा थाअश्विनी कुमारों ने सुकन्या से कहा, “देवी! तुम अपने पति को पहचान लो।” सुकन्या तीनों युवकों को देखकर चकित थी। उसने अश्विनी कुमारों की स्तुति कीतब उन्होंने सुकन्या के पति च्यवन ऋषि को बता दिया।

कुछ समय बीत जाने पर राजा शर्याति यज्ञ का निमन्त्रण देने अपनी पुत्री एवं जामाता च्यवन ऋषि के यहां आए उन्होंने देखा, वहां एक रूपवान युवक के साथ सुकन्या बैठी है । अति क्रोधित होकर उन्होंने अपनी पुत्री की निन्दा की, “तुमने अपने वृद्ध पति का त्याग करके अन्य पुरुष के साथ सम्बन्ध जोड़कर मेरे कुल को कलंकित कर दिया है।"

सुकन्या ने धीरे से कहा, “यही मेरे पति च्यवन ऋषि हैं, जिनके साथ विवाह करके आप मुझे यहां छोड़ गए थे।” राजा शर्याति प्रसन्न हुए। उन्होंने पुत्री को हृदय से लगाया राजा से सोमयज्ञ कराया और उसमें महर्षि च्यवन ने अश्विनी कुमारों को भी सोमरस पान कराया।

Immune tone Capsules
Samridhi Organi
Freia | Viviano Healthcare Pvt. Ltd.

बाल जगत