Lenin Media | Jyotish and Rashifal | Rahu Ke Dushprabhav ke Achook Upay | राहु के दुष्प्रभावों से मुक्ति के अचूक उपाय श्रद्धा और भक्ति से करे !
 
 
 
JYOTISH AND RASHIFAL

राहु के दुष्प्रभावों से मुक्ति के अचूक उपाय श्रद्धा और भक्ति से करे !

हर भाव में राहु का अपना प्रभाव है। अगर अनुकूल भी है तो उसके प्रभाव को बढ़ाया जा सकता है और प्रतिकूल है तो उसके प्रभाव को कम किया जा सकता है। आप स्वयं जान सकते हैं कि आपकी कुण्डली में राहु कौनसे स्थान पर है, उसका क्या प्रभाव है और उसका क्या उपचार किया जा सकता है।

लाल किताब के आसान उपायों को अपना कर आप अपने राहु ग्रह को आसानी से शांत कर सकते हैं और राहु से होने वाली पीड़ा से मुक्ति पा सकते हैं और जीवन के सभी सुखों को पा सकते हैं तो चलिए जानते हैं लाल किताब के अनुसार राहु के उपाय

1.आपका राहु पहले भाव में है तो आपको राहु के शुभफल प्राप्त करने के लिए उपाय के रूप में गेहूं का दान अवश्य करना चाहिए। इसी के साथ आपको चांदी की चैन में चांदी का चौरस टुकड़ा डालकर भी पहनना चाहिए।
2. यदि आपका राहु दूसरे भाव में हो तो आपको एक चांदी की ठोस गोली हमेशा अपने पास रखनी चाहिए। इसके साथ ही आपको विवाह के बाद अपने ससुराल से कोई भी बिजली का समान बिल्कुल भी नहीं लेना
3.राहु के तीसरे भाव में होने पर आपको चावल चांदी के डिब्बे में भरकर अपने घर के अंदर जरूर रखने चाहिए। इसके साथ ही आपको हाथी के दांत से बनी कोई भी वस्तु भी अपने घर पर नहीं रखनी चाहिए।
4.अगर आपका राहु चौथे भाव में है तो आपको बादाम बहते हुए पानी में अवश्य बहाने चाहिए। इसके साथ ही आपको चांदी अपने शरीर पर अवश्य धारण करनी चाहिए। ऐसा करने से आपको राहु के शुभफलों की प्राप्ति होने लगेगी।
5. लाल किताब के अनुसार यदि राहु आपको पांचवें भाव में है तो आपको उपाय के रूप में अपने घर के प्रवेश द्वार की दहलीज के नीचें चांदी की एक चौरस पट्टी अवश्य दबानी चाहिए। इसके साथ ही आपको चांदी का एक हाथी भी अपने घर में अवश्य रखना चाहिए।
6. यदि आपका राहु छठे भाव में है तो आपको भूरा या काला कुत्ता अवश्य पालें। यदि आप ऐसा नहीं कर सकते तो आप इनकी सेवा अवश्य करें। इसके साथ ही आपको अपनी जेब में सिक्के की छह गोलियां भी अवश्य रखनी चाहिए
7.अगर आपका राहु सातवें भाव में है और आपको अशुभ परिणाम दे रहा है तो आपको अपने घर के अंदर कुत्ता बिल्कुल भी नहीं पालना चाहिए और इसके साथ ही 21 साल से पहले शादी भी बिल्कुल भी नहीं करनी चाहिए।
8. यदि आपका राहु आठवें भाव में है तो आपको अपनी उम्र के 42 साल तक चांदी का चौरस टुकड़ा अपनी जेब में रखना चाहिए। इसके साथ ही आपको किसी भट्टी में ताबें का पैसा भी डालना चाहिए।
9. राहु के नवम भाव में होने पर आपको माथे पर हमेशा ही केसर का तिलक लगाना चाहिए और इसके साथ ही आपको घर में काला कुत्ता भी अवश्य पालना चाहिए साथ ही ससुराल से संबंध भी मधुर रखने चाहिए।
10. अगर आपका राहु दशम भाव में है तो आपको उपाय के रूप में दस अंधे पुरुषों को अपने हाथ से खाना खिलाना चाहिए और इसके साथ ही आपको हमेशा सिर ढक्कर रहना चाहिए।
11. राहु के ग्यारहवें भाव में होने पर आपको अपने शरीर पर सोना अवश्य धारण करना चाहिए। इसके साथ ही आपको हमेशा गरीबों को सिक्के दान में देने चाहिए।
12. कुंडली के बारहवें भाव में राहु होने पर लाल कपड़े में सौंफ, देशी खांड और लाल मूंगा बांधकर अपने सिरहाने रखना चाहिए।इसके साथ ही आपको खाना हमेशा रसोई में ही खाना चाहिए।

इसके अलावा भी आप निम्नलिखित उपाय भी अपना सकते है जो भी आप को ठीक लगे और जिस किसी उपाय को करने में आप को आसानी हो पर आप उपाय करे जरूर राहु के दुष्प्रभाव से मुक्ति पाने के लिए खास बात ये है की इन उपायों से किसी को भी कोई हानि नहीं हो रही है और ये उपाय आप खुद अपने हाथ से कर रहे है!

1. बहते पानी में तांबे के 43 दुकड़े प्रवाहित करें।
2. नदी में लकड़ी का कोयला प्रवाहित करें।
3. मूली का दान करें।
4. काले कुत्तें को मीठी रोटियां खिलाएं।
5. अष्टधातु का कड़ा दाहिने हाथ में डाले।
6. जमादार को तम्बाकू का दान करना चाहिए।
7. शनिवार के दिन अपना उपयोग किया हुआ कंबल दान करें।
8. शिवजी पर जल, धतूरा के बीज चढ़ाएं और सोमवार का व्रत करें।
9. अपने आप सफेद चंदन अवश्य रखें। सफेद चंदन को माला भी धारण कर सकते हैं। प्रतिदिन सुबह चंदन का टीका भी लगाना चाहिए। नहाने के पानी में चंदन का इत्र डालकर नहाएं।
10. अपन पास ठोस चांदी से बना हुआ चकौर टुकड़ा रखें।
11. भोजन भोजनकक्ष में ही करें।
125. हर बुधवार को चार सौ ग्राम धनिया पानी में में प्रवाहित करें।
13.ससुराल पक्ष से अच्छे संबंध रखें।
14. एक नारियल और 11 बादाम (साबुत) काले वस्त्र में बांधकर जल में प्रवाहित करें।
15. रात को सिरहाने मूली रखें और उसे सुबह किसी मंदिर में दान कर दें
16.चांदी का ठोस हाथी बनवाकर घर में रखें।
17. किसी आश्रम में जाकर कोढि़यों की सेवा करें।
18. 100 दिन तक किसी मंदिर में झाड़ू लगाएं।
19. किसी जरूरतमंद को चावल का भोजन कराएं।
20. जौ पानी में बहाएं।

(संजोय क सिंह)